Copyright

Copyright © 2018 "मंथन"(https://shubhravastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

गुरुवार, 18 अक्तूबर 2018

" त्रिवेणी"

( 1 ) गीली रेत पर कभी उकेरी थी एक तस्वीर ।
समेट ले गई सब कुछ वक्त की लहर ।

बस कुछ शंख सीपियों के निशान बाकी हैं ।।

( 2 ) कभी कभी बेबाक हंसी ।
बेलगाम झरने सरीखी होती है ।

गतिरोध आसानी से हट जाया करते हैं ।।

( 3 ) आज कल बोलने का वक्त है ।
कहने सुनने से आत्मबल बढ़़ जाता है ।

मछली बाजारों में बातें कहां शोर ही सुनता है ।।
XXXXX

शुक्रवार, 12 अक्तूबर 2018

"माहिया" ( स्वीकारोक्ति )

(1) बचपन कब बीत गया
इस के जाने से
मन मेरा रीत गया

(2) मैं तो बस ये जानूं
तुम को  ही अपना
सच्चा साथी मानूं

(3) लम्बी बातें कितनी
नापूं तो निकले
गहरी सागर जितनी

(4) मैं याद करूं क्या क्या
बीच हमारे थीं
सौ जन्मों की बाधा

(5) छोटी छोटी बातें
अब लगती हैं सब
जन्मों की सौगातें

XXXXX

शुक्रवार, 5 अक्तूबर 2018

“सीख” (रोला छंद)

विषम चरण  - ११ मात्राएं
सम चरण  - १३ मात्राएं

( १ )   मन ने ठानी आज , सृजन हो नया पुराना ।
        मिली-जुली हो बात , लगे संगम की धारा ।।

( २ )   हो सब का सम्मान , कर्म कुछ ऐसे कीजै ।
        बने एक इतिहास , देख सुन के सब रीझै ।।

( ३ )   रहना सब को साथ , जिद्द होगी बेमानी ।
        विलग करो अभिमान , छोटी सी जिंदगानी ।।

( ४ )   भोर करे संकेत , हुआ है नया सवेरा ।
         दुनिया एक सराय , मुसाफिर वाला डेरा ।।

( ५ )   होते नहीं निराश , राहें और भी बाकी ।
        मन अपने को साध , वही सुख-दुख का साथी ।।

                         XXXXX

सोमवार, 1 अक्तूबर 2018

"जीवन रंग"

भोर का तारा जा सिमटा
नींद के आगोश में ।
अरूणाभ ऊषा ने
छिड़क दिया सिंदूरी रंग
कुदरत के कैनवास पर ।

पूरी कायनात सज गई
अरूणिम मरकती रंगों से ।
भोर की भंगिमा निखर गई
प्रकृति के विविध अंगों से ।

सात रंगों की उजास ने
सूर्य प्रभामंडल संग मिल
श्वेताभ रंग बिखेर दिया ।
सृष्टि को कर्मठता से
कर्मपथ पर कर्मरत रहने
हेतु संदेश दिया ।

विश्रान्ति काल ……..,
सांझ का तारा ले आया
टिमटिमाता मटियाला कम्बल ।

चाँद-तारों से बात कर
प्राणों में ऊर्जा संचित कर ।
कर्म क्षेत्र की राह पर
कर्मठता का रथ तैयार कर ।

         XXXXX

गुरुवार, 27 सितंबर 2018

"वक्त"

वक्त मिला है आज , कुछ अपना ढूंढते हैं ।
करें खुद से खुद ही बात , अपना हाल पूछते  हैं ।।

कतरा कतरा वक्त , लम्हों  सा बिखर गया ।
फुर्सत में खाली हाथ , उसे पाने को जूझते हैं ।।

दौड़ती सी जिंदगी , यकबयक थम गई ।
थके हुए से कदम , खुद के निशां ढूंढते हैं ।।

गर्द सी जमी है ,  घर के दर और दीवारों पर  ।
मेरे ही मुझ से गैर बन , मेरा नाम पूछते हैं ।।

ज़िन्दगी की राह में , देखने को मिला अक्सर ।
दोस्त ही दुश्मन बन  , दिल का चैन लूटते हैं ।।

XXXXX

शुक्रवार, 21 सितंबर 2018

“तृष्णा”

अभिव्यक्ति शून्य , भावों से रिक्त ।
तृष्णा से पंकिल , ढूंढता असीमित ।।

असीम गहराइयों में , डूबता-तिरता ।
निजत्व की खोज में ,रहता सदा विचलित ।।

दुनियावी गोरखधंधों से , होता बहुत व्यथित ।
सूझे नही राह कोई , हो गया भ्रमित ।।

मृगतृष्णा में फंसे , तृषित हिरण सा ।
मरु लहरियों के जाल से , है बड़ा चकित ।।

तृष्णा में लिपटा , खुद को छलता ।
मेरा मन अपने आप में , होता सदा विस्मित ।।

XXXXX

गुरुवार, 20 सितंबर 2018

"लघु कविताएं"

( 1 )

तुम्हारे और मेरे बीच
एक थमी हुई झील है
जिसकी हलचल
जम सी गई है ।
जमे भी क्यों नहीं…..,
मौसम की मार से
धूप की गर्माहट
हमारे नेह की
आंच की मानिंद
बुझ सी गई है ।
 ( 2 )

सांस लेने दो इस को
शब्दों पर बंधन क्यों
यह नया सृजन है
कल-कल करता निर्झर
अनुशासनहीन  नहीं
मंजुलता का प्रतीक है
 
      XXXXX

रविवार, 16 सितंबर 2018

"कब तक”

नैन हमारे तकते राहें ,जाने तुम आओगे कब तक ।
जाओ तुम से बात करें क्यों , साथ हमारा दोगे कब तक ।।

ना फरमानी फितरत पर हम , बोलो क्योंकर गौर करेंगे ।
तुम ही कह दो जो कहना है , हम से और लड़ोगे कब तक ।।

बेमतलब यूं दुख देने का , हुनर कहाँ  से तुमने पाया ।
मेरी तो आदत ऐसी ही , तुम ये बात कहोगे कब तक ।।

छोड़ो हठ  करने की आदत  , काम कई हैं करने  बाकी ।
घर अपना है जग अपना है , तुम ये सब समझोगे कब तक ।।

जीवन नैया बिन नाविक के , बोलो पार करोगे कैसे ।
बहते दरिया के पानी को , बाँधों से रोकोगे कब तक ।।
XXXXX

शुक्रवार, 14 सितंबर 2018

"हिन्दी दिवस"

अपने स्कूली दिनों से अब तक “हिन्दी दिवस”  बड़ी धूमधाम से मनाते देखा है । कुछ वर्षों के शिक्षण काल में हिन्दी के प्रचार-प्रसार पर बल देने की बात भी कही है मगर वैश्वीकरण के जमाने में पश्चिमी देशों की ओर रूझान रखने वाले लोगों के यहां बच्चों की मातृभाषा के रूप में अंग्रेजी के बढ़ते चलन को भी देख और महसूस कर रही हूँ ।विकासवादी और आधुनिकतावादी नजरिया कोई बुराई नही है मगर उसके पीछे भागते हुए अपनी संस्कृति और भाषा की अवमानना बुरी लगती है । आजादी के इतने वर्षों बाद भी  हिन्दी को राष्ट्रभाषा का सम्मान न देना मन में चुभन पैदा करता है ।

चलिए हम सब आज ,
हिन्दी में बात करते हैं
१४ सितम्बर का नाम ,
हिन्दी दिवस रखते हैं
करें कुछ सभाएं ,
दिखाएं कुछ ठसक अपनी
आती तो नहीं फिर भी,
बस थोड़ी- थोड़ी समझते हैं

समझते क्यों नहीं है आप …,
बूढ़ी हो गई है हिन्दी
आ गया जनरेशन गैप ,
कब समझेगी ये जिद्दी
बोलने में भी बड़ी जटिल,
कोई समझेगा कितना
साल भर चलता है ना काम,
तो एक दिन शोर क्यों इतना

करते हैं कोरी बातें ,
मान कहाँ हम भी करते हैं
क्यों अपने घरों में सारे ,
इसे अलग थलग रखते  हैं
छोड़े़ फलसफों की बात ,
बात मुद्दे की करते हैं
जो सब करते हैं आज
काम हम भी वही करते हैं

हिन्दी दिवस है आज
हिन्दी में बात करते हैं

XXXXX

सोमवार, 10 सितंबर 2018

"जल”

हरहराता ठाठें मारता
प्रकृति का वरदान है जल ।
जीवन देता प्यास बुझाता
नद-निर्झर में बहता है जल ।।

जो ये बरसे मेघ बन कर
खिले धरा दुल्हन बन कर ।
उस अम्बर का इस धरती पर   
छलके ये अनुराग बन कर ।।

सीप म़ें मोती मोती की आब
जीवन का  मधु राग है जल ।
गम से टूटे बांध जो दिल के
तो आँखों से बहता है जल ।।

तोड़े सीमा तो बने प्रलय
मर्यादा में अभिराम है जल ।
बिन इसके तो शून्य जगत है
सृष्टि का आधार है जल ।।

XXXXX

गुरुवार, 6 सितंबर 2018

"मैं कौन हूँ’

मन में अभी एक ख्याल आया ।
कौन हूँ , क्या हूँ , ये सवाल आया ।।
खोजा तो पाया स्वयं को बड़ा विशाल ।
नारी रूप में मेरा अस्तित्व बेमिसाल।।

बाबुल के आंगन तितली सी
मेघों की चपला बिजली सी ।
साजन के घर लगती ऐसी ।
देव धरा पर लक्ष्मी जैसी ।।

तन्वगिनी  से नाम लिए हैं ।
सुख अपने सब वार दिये हैं ।।
नेह सुधा की गागर पकड़े ।
त्याग सभी बेनाम किये हैं ।।



सबके दिलों को जानती मैं ।
रिश्तों की कड़ियाँ बाधंती मैं ।।
तिनका-तिनका जोड़ कर ।
बिखरा  घर संवारती मैं ।।


शिशु की प्रथम पाठशाला देती मैं संस्कार ।
मेरा हृदय धरा सम करूणा का मैं भण्डार ।।
इस धरा पर ईश्वर का दिया एक उपहार ।
खुद से मेरा खुद के द्वारा प्रथम साक्षात्कार ।।
                    XXXXX

रविवार, 2 सितंबर 2018

“भ्रमर गीत”

सभी साथियों को भगवान श्री कृष्ण जी के जन्म दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाइयाँ । कभी सूरदास जी के पद खुद पढ़ते तो कभी पढ़ाते जहाँ मन अधिक रमा वो थे भ्रमर गीत । इन पदों में कृष्ण का वियोग और गोपियों का उपालम्भ उद्धव जी के आगे सम्पूर्ण तार्किकता के साथ खूब छलका  । आज खुद लिखने बैठी तो गोप-गोपियों के साथ नन्द -यशोदा और राधा की मौन वेदना पुनः मन में साकार हो उठी । एक प्रयास मेरा भी भ्रमर गीत के बहाने बांकेबिहारी को कुछ शिकवे गिले करने का ।
        
      “भ्रमर गीत”

वृन्दावन की कुँज गली
कृष्ण बिना सुनसान पड़ी
कब आएँगे कृष्ण कन्हाई
पूछ रही वृषभान कुँवरि
  
तुम बिन सूनी सारी गलियाँ
राह देखती थक गई अखियाँ
सूने कूल कदम्ब किनारे
ब्रज का मधुवन तुम्हें पुकारे

हो तुम तो निर्मोही सांवरे
संगी साथी सभी बिसारे
नन्द यशोदा बाट निहारे
सूने उनके सांझ-सकारे

मथुरा के वैभव में क्या है
निश्छल सा संसार यहां है
ग्वाल-बाल संग तेरी गैया
जीवन का आधार यहां है

भेजा निर्गुण ब्रह्म का ज्ञानी
सगुण प्रेम की रीति न जानी
माखन मिश्री खा कर कान्हा
कहाँ से सीखी कड़वी बानी

हम तो केवल तुम को जाने
सुख दुख का सहभागी मानें
सांसों में तुम बसे हमारे
उद्धव को हम क्यों पहचाने

ये तो दीखे भ्रमर सरीखा
ज्ञानयोग का भरे खलीता
जाने आया कौन देश से
इसका तो मीठा भी फीका
XXXXX

शुक्रवार, 31 अगस्त 2018

"परामर्श" (सेदोका)

(1)            

तुम ही कहो
ये भी कोई बात है
अपना ही अपना
गौरवगान
समझदारी नहीं
दर्प का पर्याय है

   (2)

बुरी बात है
किसी की ना सुनना
मनमानी करना
जिद्द होती है
यदि जाना है आगे
सब के साथ चलो

     (3)

भोर का तारा
कर रहा इशारा
दिन की शुरुआत
ऊषा के साथ
कल को भूल कर
आज की नींव रख

       XXXXX

रविवार, 26 अगस्त 2018

"आशाएँँ " (लघु कविताएँ)

  (1) 

बहते दरिया सा हो जीवन
करें सुकर्म रखें पुनीत मन

प्रगति पथ पर बढ़ते जाएँ
राग-द्वेष का कलुष मिटाएँं

निर्मल जल सा अपना हो मन
ज्योतिर्मय हो सब का जीवन


         ( 2 )

डाल से विलग पत्ती
ब्याह के बाद बेटी

अपनों से बिछड़
गैर सी आंगन में खड़ी

दिल में कसक
लबों पे मुस्कुराहट

दृगों में नमी और
गुम वजूद की चाहत

XXXXX

बुधवार, 22 अगस्त 2018

"सपना"(चौपाई)

नील गगन आंगन में तारे  ।
निशदिन हम को तकते सारे ।।

सोचूं इक दिन इनको जानूं ।
मन की सब बातें पहचानूं  ।।

सोचा मैं अम्बर पर जाऊं  ।
तारों की झोली भर लाऊं  ।।

टकेंगे जब चूनर पर सारे  ।
जुगनूु  छुप जायेंगे सारे  ।।

चूनर  ओढ़ेगी जब सजनी  ।
शर्मायेगी देख के रजनी  ।।

चाँद धरा के ऊपर होगा  ।
तरुणी मुख चन्दा सम होगा ।।

XXXXX

शुक्रवार, 17 अगस्त 2018

"कुछ नये के फेर में"

कुछ नये के फेर में ,
अपना पुराना भूल गए ।
देख मन की खाली स्लेट ,
कुछ सोचते से रह गए ।।

ढलती सांझ का दर्शन ,
शिकवे-गिलों में डूब गया ।
दिन-रात की दहलीज पर मन ,
सोचों में उलझा रह गया ।।

दो और दो  के जोड़ में ,
भावों का निर्झर सूख गया ।
तेरा था साथ रह गया ,
मेरा सब पीछे छूट गया ।।

XXXXX

बुधवार, 15 अगस्त 2018

" स्वन्तत्रता दिवस"

आओ सब मिल कर आज ,स्वन्तत्रता दिवस मनायें ।

शहीदों को याद करें ,
मान से शीश झुकायें ।।
फहरायें तिरंगा शान से ,
गर्व से जन गण मन गायें ।।

आओ सब मिल कर आज ,स्वन्तत्रता दिवस मनायें ।

सीखें समानता बन्धुता का पाठ ,
राष्ट्र का मान बढ़ायें ।
त्यागें राग द्वेष का भाव ,
कुटुम्ब खुशहाल बनायें ।।

आओ सब मिल कर आज ,स्वन्तत्रता दिवस मनायें ।

व्यक्तिगत को भूल कर ,
समष्टिगत को जीवन सार बनायें ।
करें सब की इच्छा का आदर ,
सामान्य इच्छा का सिद्धांत अपनायें ।।

आओ सब मिल कर आज ,स्वन्तत्रता दिवस मनायें ।

XXXXX

गुरुवार, 9 अगस्त 2018

"सावन” दोहे

(1)      उमड़ घुमड़ कर छा गए, बादल ये घनघोर ।
इन्द्र देव की है कृपा , नाचें मन का मोर ।।

(2) सावन आया हे सखी , तीजों का त्यौहार ।
पहन लहरिया आ गई , मूमल सी घर नार ।।

(3) गूंजे मीठी  बोलियां , गीतों की भरमार ।
भाई आया पाहुना , राखी का त्यौहार ।।

(4) मैं पूजूं शिव पार्वती ,  करूं यही अरदास ।
दया रहे बस आपकी , सुखी रहे घर बार ।।

(5) हो सम्पन्न वसुंधरा , सजे खेत खलिहान ।
आलम्बन निज मान के , बने सभी इन्सान ।।

               

                          XXXXX


शनिवार, 4 अगस्त 2018

"कभी तो मिलने आया करो"

कभी तो मिलने आया करो ।
अपने हो याद दिलाया करो ।।

महंगा हो गया वक्त आजकल ।
मिले तो साथ निभाया करो ।।

उलझनों को बांध गठरी में ।
किसी कोने में छोड़ आया करो

फबती है मुस्कान तुम पर ।
इसे लबों पर सजाया करो ।।

क्यों करते हो नुक्ताचीनी ।
हुनर अमल में लाया करो ।।

दुनियां के बाजार में भीड़ बहुत ।
अर्जमन्दी से राहें बनाया करो ।।

फूलों ढकी राहें  होती नहीं कभी ।
जैसी मिले राह चलते जाया करो ।।

XXXXX


बुधवार, 1 अगस्त 2018

"लिखना"

ख़त में बातें सुहानी लिखना ।
अपनी कोई निशानी लिखना ।।
मिलेंगे हम मुद्दतों के बाद ।
नेह से नाम दीवानी  लिखना ।।

जिन्दगी की रवानी लिखना ।
मन की बात पुरानी लिखना ।।
पुल बने हैं एक अर्से के बाद ।
भूली कोई कहानी लिखना ।।

अपनी सब नादानी लिखना ।
जज़्बात सभी रूहानी लिखना ।।
झांक कर अतीत के झरोखे से ।
यादें अपनी नूरानी लिखना ।।

जानी या अनजानी लिखना ।
अपनी सब मनमानी लिखना ।।
ख़त पर मेरा पता लिखो तब ।
श्याम की राधा रानी लिखना ।।
  xxxxxxx